Home / Dosti Shayari

Dosti Shayari

Intezamat naye sire se sambhale jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat”,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!