Wednesday , April 8 2020

Din Shayari

Pyar Shabdon Ka Mohtaz Nahi Hota

Pyar shabdon ka mohtaz nahi hota
Dil mein har kisi ke raaz nahi hota
Kyun intezaar karte hai sabhi valentine day ka
Kya saal ka har din pyar ka haqdaar nahi hota ?

प्यार शब्दों का मोहताज नही होता
दिल में हर किसी के राज़ नही होता
क्यों इंतज़ार करते है सभी वैलेंटाइन डे का
क्या साल का हर दिन प्यार का हक़दार नही होता?

Happy Valentine’s Day

 

Ye sannata bahut mahnga padega..

Ye sannata bahut mahnga padega,
Ise bhi phut kar rona padega.

Wahi do-chaar chehare ajnabi se,
Unhi ko phir se dohrana padega.

Koi ghar se nikalta hi nahi hai,
Hawa ko thak ke so jaana padega.

Yahan suraj bhi kala pad gaya hai,
Kahin se din bhi mangwana padega.

Wo achchhe the jo pahle mar gaye hain,
Hamein ab aur pachhtana padega. !!

ये सन्नाटा बहुत महँगा पड़ेगा,
इसे भी फूट कर रोना पड़ेगा !

वही दो-चार चेहरे अजनबी से,
उन्हीं को फिर से दोहराना पड़ेगा !

कोई घर से निकलता ही नहीं है,
हवा को थक के सो जाना पड़ेगा !

यहाँ सूरज भी काला पड़ गया है,
कहीं से दिन भी मँगवाना पड़ेगा !

वो अच्छे थे जो पहले मर गए हैं,
हमें अब और पछताना पड़ेगा !!