Home / Dil Shayari

Dil Shayari

Deep tha ya taara kya jaane..

Deep tha ya taara kya jaane,
Dil mein kyon dooba kya jaane.

Gul par kya kuch beet gayi hai,
Albela jhonka kya jaane.

Aas ki maili chaadar odhe,
Woh bhi tha mujh sa kya jaane.

Reet bhi apni rutt bhi apni,
Dil rasm-e-duniya kya jaane.

Ungli thaam ke chalne wala,
Nagri ka rasta kya jaane.

Kitne mod abhi baaki hain,
Tum jaano saaya kya jaane.

Kaun khilauna toot gaya hai,
Baalak be-parwa kya jaane.

Mamta ott dahakte sooraj,
Aankhon ka taara kya jaane !!

दीप था या तारा क्या जाने,
दिल में क्यूँ डूबा क्या जाने !

गुल पर क्या कुछ बीत गई है,
अलबेला झोंका क्या जाने !

आस की मैली चादर ओढ़े,
वो भी था मुझ सा क्या जाने !

रीत भी अपनी रुत भी अपनी,
दिल रस्म-ए-दुनिया क्या जाने !

उँगली थाम के चलने वाला,
नगरी का रस्ता क्या जाने !

कितने मोड़ अभी बाक़ी हैं,
तुम जानो साया क्या जाने !

कौन खिलौना टूट गया है,
बालक बे-परवा क्या जाने !

ममता ओट दहकते सूरज,
आँखों का तारा क्या जाने !!