Home / Chiraagh Shayari

Chiraagh Shayari

Ajib khauf musallat tha kal haweli par..

Ajib khauf musallat tha kal haweli par,
Lahu charagh jalati rahi hatheli par.

Sunega kaun magar ehtijaj khushbu ka,
Ki sanp zahar chhidakta raha chameli par.

Shab-e-firaq meri aankh ko thakan se bacha,
Ki nind war na kar de teri saheli par.

Wo bewafa tha to phir itna mehrban kyun tha,
Bichhad ke us se main sochun usi paheli par.

Jala na ghar ka andhera charagh se “Mohsin”,
Sitam na kar meri jaan apne yar beli par. !!

अजीब ख़ौफ़ मुसल्लत था कल हवेली पर,
लहु चराग़ जलाती रही हथेली पर !

सुनेगा कौन मगर एहतिजाज ख़ुश्बू का,
कि साँप ज़हर छिड़कता रहा चमेली पर !

शब-ए-फ़िराक़ मेरी आँख को थकन से बचा,
कि नींद वार न कर दे तेरी सहेली पर !

वो बेवफ़ा था तो फिर इतना मेहरबाँ क्यूँ था,
बिछड़ के उस से मैं सोचूँ उसी पहेली पर !

जला न घर का अँधेरा चराग़ से “मोहसिन”,
सितम न कर मेरी जाँ अपने यार बेली पर !!

 

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya..

Kahin se laut ke hum ladkhadaye hain kya-kya,
Sitare zer-e-qadam raat aaye hain kya-kya.

Nasheb-e-hasti se afsos hum ubhar na sake,
Faraaz-e-dar se paigham aaye hain kya-kya.

Jab uss ne haar ke khanjar zameen pe phenk diya,
Tamaam zakhm-e-jigar muskuraye hain kya-kya.

Chhata jahan se uss aawaz ka ghana badal,
Wahin se dhoop ne talve jalaye hain kya-kya.

Utha ke sar mujhe itna do dekh lene de,
Ki qatl-gaah mein diwane aaye hain kya-kya.

Kahin andhere se maanus ho na jaye adab,
charagh tez hawa ne bujhaye hain kya-kya. !!

कहीं से लौट के हम लड़खड़ाए हैं क्या-क्या,
सितारे ज़ेर-ए-क़दम रात आए हैं क्या-क्या !

नशेब-ए-हस्ती से अफ़्सोस हम उभर न सके,
फ़राज़-ए-दार से पैग़ाम आए हैं क्या-क्या !

जब उस ने हार के ख़ंजर ज़मीन पे फेंक दिया,
तमाम ज़ख़्म-ए-जिगर मुस्कुराए हैं क्या-क्या !

छटा जहाँ से उस आवाज़ का घना बादल,
वहीं से धूप ने तलवे जलाए हैं क्या-क्या !

उठा के सर मुझे इतना तो देख लेने दे,
कि क़त्ल-गाह में दीवाने आए हैं क्या-क्या !

कहीं अँधेरे से मानूस हो न जाए अदब,
चराग़ तेज़ हवा ने बुझाए हैं क्या-क्या !!

 

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath..

Ki hai koi hasin khata har khata ke sath,
Thoda sa pyar bhi mujhe de do saza ke sath.

Gar dubna hi apna muqaddar hai to suno,
Dubenge hum zaroor magar na-khuda ke sath.

Lau de uthe hawa ko bhi daaman to kya ghazab,
Yun hi chiraagh uljhate rahe gar hawa ke sath.

Manzil se woh bhi door tha aur hum bhi door the,
Hum ne bhi dhool udaayi bahut rahnuma ke sath.

Raqs-e-saba ke jashn mein hum tum bhi naachte,
Aye kash tum bhi aa gaye hote saba ke sath.

Ikkiswin sadi ki taraf hum chale to hain,
Fitne bhi jaag uthe hain aawaz-e-paa ke sath.

Aisa laga ghareebi ki rekha se hun buland,
Puchha kisi ne haal kuchh aisi adaa ke sath. !!

की है कोई हसीन ख़ता हर ख़ता के साथ,
थोड़ा सा प्यार भी मुझे दे दो सज़ा के साथ !

गर डूबना ही अपना मुक़द्दर है तो सुनो,
डूबेंगे हम ज़रूर मगर नाख़ुदा के साथ !

लौ दे उठे हवा को भी दामन तो क्या ग़ज़ब,
यूँ ही चिराग़ उलझते रहे गर हवा के साथ !

मंज़िल से वो भी दूर था और हम भी दूर थे,
हम ने भी धूल उड़ाई बहुत रहनुमा के साथ !

रक़्स-ए-सबा के जश्न में हम तुम भी नाचते,
ऐ काश तुम भी आ गए होते सबा के साथ !

इक्कीसवीं सदी की तरफ़ हम चले तो हैं,
फ़ित्ने भी जाग उट्ठे हैं आवाज़-ए-पा के साथ !

ऐसा लगा ग़रीबी की रेखा से हूँ बुलंद,
पूछा किसी ने हाल कुछ ऐसी अदा के साथ !!

 

Aa Gayi Yaad Sham Dhalte Hi..

Aa gayi yaad sham dhalte hi,
Bujh gaya dil charagh jalte hi.

Khul gaye shahr-e-gham ke darwaze,
Ek zara si hawa ke chalte hi.

Kaun tha tu ki phir na dekha tujhe,
Mit gaya khwab aankh malte hi.

Khauf aata hai apne hi ghar se,
Mah-e-shab-tab ke nikalte hi.

Tu bhi jaise badal sa jata hai,
Aks-e-diwar ke badalte hi.

Khoon sa lag gaya hai hathon mein,
Chadh gaya zahr gul masalte hi. !!

आ गई याद शाम ढलते ही,
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही !

खुल गए शहर-ए-ग़म के दरवाज़े,
इक ज़रा सी हवा के चलते ही !

कौन था तू कि फिर न देखा तुझे,
मिट गया ख़्वाब आँख मलते ही !

ख़ौफ़ आता है अपने ही घर से,
माह-ए-शब-ताब के निकलते ही !

तू भी जैसे बदल सा जाता है,
अक्स-ए-दीवार के बदलते ही !

ख़ून सा लग गया है हाथों में,
चढ़ गया ज़हर गुल मसलते ही !!

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye..

Mujhe sahl ho gayi manzilen wo hawa ke rukh bhi badal gaye,
Tera hath hath mein aa gaya ki charagh rah mein jal gaye.

Wo lajaye mere sawal par ki utha sake na jhuka ke sar,
Udi zulf chehre pe is tarah ki shabon ke raaz machal gaye.

Wahi baat jo wo na kah sake mere sher-o-naghma mein aa gayi,
Wahi lab na main jinhen chhu saka qadah-e-sharab mein dhal gaye.

Wahi aastan hai wahi jabin wahi ashk hai wahi aastin,
Dil-e-zar tu bhi badal kahin ki jahan ke taur badal gaye.

Tujhe chashm-e-mast pata bhi hai ki shabab garmi-e-bazm hai,
Tujhe chashm-e-mast khabar bhi hai ki sab aabgine pighal gaye.

Mere kaam aa gayi aakhirash yahi kawishen yahi gardishen,
Badhin is qadar meri manzilen ki qadam ke khar nikal gaye. !!

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए,
तेरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए !

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर,
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए !

वही बात जो वो न कह सके मेरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई,
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए !

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं,
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए !

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है,
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए !

मेरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें,
बढ़ीं इस क़दर मेरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए !!

Wo khat ke purze uda raha tha..

Wo khat ke purze uda raha tha,
Hawaon ka rukh dikha raha tha.

Bataun kaise wo bahta dariya,
Jab aa raha tha to ja raha tha.

Kuch aur bhi ho gaya numayan,
Main apna likha mita raha tha.

Dhuan dhuan ho gayi thi aankhen,
Charagh ko jab bujha raha tha.

Munder se jhuk ke chand kal bhi,
Padosiyon ko jaga raha tha.

Usi ka iman badal gaya hai,
Kabhi jo mera khuda raha tha.

Wo ek din ek ajnabi ko,
Meri kahani suna raha tha.

Wo umar kam kar raha tha meri,
Main saal apne badha raha tha.

Khuda ki shayad raza ho is mein,
Tumhara jo faisla raha tha. !!

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था,
हवाओं का रुख़ दिखा रहा था !

बताऊँ कैसे वो बहता दरिया,
जब आ रहा था तो जा रहा था !

कुछ और भी हो गया नुमायाँ,
मैं अपना लिखा मिटा रहा था !

धुआँ धुआँ हो गई थीं आँखें,
चराग़ को जब बुझा रहा था !

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी,
पड़ोसियों को जगा रहा था !

उसी का ईमाँ बदल गया है,
कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था !

वो एक दिन एक अजनबी को,
मेरी कहानी सुना रहा था !

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था !

ख़ुदा की शायद रज़ा हो इस में,
तुम्हारा जो फ़ैसला रहा था !!

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya..

Nigah-e-naaz ne parde uthaye hain kya kya,
Hijab ahl-e-mohabbat ko aaye hain kya kya.

Jahan mein thi bas ek afwah tere jalwon ki,
Charagh-e-dair-o-haram jhilmilaye hain kya kya.

Do-chaar barq-e-tajalli se rahne walon ne,
Fareb narm-nigahi ke khaye hain kya kya.

Dilon pe karte hue aaj aati jati chot,
Teri nigah ne pahlu bachaye hain kya kya.

Nisar nargis-e-mai-gun ki aaj paimane,
Labon tak aaye hue thartharaye hain kya kya.

Wo ek zara si jhalak barq-e-kam-nigahi ki,
Jigar ke zakhm-e-nihan muskuraye hain kya kya.

Charagh-e-tur jale aaina-dar-aina,
Hijab barq-e-ada ne uthaye hain kya kya.

Ba-qadr-e-zauq-e-nazar did-e-husn kya ho magar,
Nigah-e-shauq mein jalwe samaye hain kya kya.

Kahin charagh kahin gul kahin dil-e-barbaad,
Khiram-e-naz ne fitne uthaye hain kya kya.

Taghaful aur badha us ghazal-e-rana ka,
Fusun-e-gham ne bhi jadu jagaye hain kya kya.

Hazar fitna-e-bedar khwab-e-rangin mein,
Chaman mein ghuncha-e-gul-rang laye hain kya kya.

Tere khulus-e-nihan ka to aah kya kahna,
Suluk uchatte bhi dil mein samaye hain kya kya.

Nazar bacha ke tere ishwa-ha-e-pinhan ne,
Dilon mein dard-e-mohabbat uthaye hain kya kya.

Payam-e-husn payam-e-junun payam-e-fana,
Teri nigah ne fasane sunaye hain kya kya.

Tamam husn ke jalwe tamam mahrumi,
Bharam nigah ne apne ganwaye hain kya kya.

“Firaq” rah-e-wafa mein subuk-rawi teri,
Bade-badon ke qadam dagmagaye hain kya kya. !!

निगाह-ए-नाज़ ने पर्दे उठाए हैं क्या क्या,
हिजाब अहल-ए-मोहब्बत को आए हैं क्या क्या !

जहाँ में थी बस इक अफ़्वाह तेरे जल्वों की,
चराग़-ए-दैर-ओ-हरम झिलमिलाए हैं क्या क्या !

दो-चार बर्क़-ए-तजल्ली से रहने वालों ने,
फ़रेब नर्म-निगाही के खाए हैं क्या क्या !

दिलों पे करते हुए आज आती जाती चोट,
तेरी निगाह ने पहलू बचाए हैं क्या क्या !

निसार नर्गिस-ए-मय-गूँ कि आज पैमाने,
लबों तक आए हुए थरथराए हैं क्या क्या !

वो इक ज़रा सी झलक बर्क़-ए-कम-निगाही की,
जिगर के ज़ख़्म-ए-निहाँ मुस्कुराए हैं क्या क्या !

चराग़-ए-तूर जले आइना-दर-आईना,
हिजाब बर्क़-ए-अदा ने उठाए हैं क्या क्या !

ब-क़द्र-ए-ज़ौक़-ए-नज़र दीद-ए-हुस्न क्या हो मगर,
निगाह-ए-शौक़ में जल्वे समाए हैं क्या क्या !

कहीं चराग़ कहीं गुल कहीं दिल-ए-बर्बाद,
ख़िराम-ए-नाज़ ने फ़ित्ने उठाए हैं क्या क्या !

तग़ाफ़ुल और बढ़ा उस ग़ज़ाल-ए-रअना का,
फ़ुसून-ए-ग़म ने भी जादू जगाए हैं क्या क्या !

हज़ार फ़ित्ना-ए-बेदार ख़्वाब-ए-रंगीं में,
चमन में ग़ुंचा-ए-गुल-रंग लाए हैं क्या क्या !

तेरे ख़ुलूस-ए-निहाँ का तो आह क्या कहना,
सुलूक उचटटे भी दिल में समाए हैं क्या क्या !

नज़र बचा के तेरे इश्वा-हा-ए-पिन्हाँ ने,
दिलों में दर्द-ए-मोहब्बत उठाए हैं क्या क्या !

पयाम-ए-हुस्न पयाम-ए-जुनूँ पयाम-ए-फ़ना,
तेरी निगाह ने फ़साने सुनाए हैं क्या क्या !

तमाम हुस्न के जल्वे तमाम महरूमी,
भरम निगाह ने अपने गँवाए हैं क्या क्या !

“फ़िराक़” राह-ए-वफ़ा में सुबुक-रवी तेरी,
बड़े-बड़ों के क़दम डगमगाए हैं क्या क्या !!