Home / Chaand Shayari

Chaand Shayari

Baat karni hai baat kaun kare..

Baat karni hai baat kaun kare,
Dard se do-do hath kaun kare.

Hum sitare tumhein bulate hain,
Chand na ho to raat kaun kare.

Ab tujhe rab kahen ya but samjhein,
Ishq mein zat-pat kaun kare.

Zindagi bhar ki the kamai tum,
Is se zyaada zakat kaun kare. !!

बात करनी है बात कौन करे,
दर्द से दो-दो हाथ कौन करे !

हम सितारे तुम्हें बुलाते हैं,
चाँद न हो तो रात कौन करे !

अब तुझे रब कहें या बुत समझें,
इश्क़ में ज़ात-पात कौन करे !

ज़िंदगी भर की थे कमाई तुम,
इस से ज़्यादा ज़कात कौन करे !!

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad

Wo bhi sarahne lage arbab-e-fan ke baad,
Dad-e-sukhan mili mujhe tark-e-sukhan ke baad.

Diwana-war chaand se aage nikal gaye,
Thahra na dil kahin bhi teri anjuman ke baad.

Honton ko si ke dekhiye pachhtaiyega aap,
Hangame jag uthte hain aksar ghutan ke baad.

Ghurbat ki thandi chhanw mein yaad aayi us ki dhup,
Qadr-e-watan hui hamein tark-e-watan ke baad.

Elan-e-haq mein khatra-e-dar-o-rasan to hai,
Lekin sawal ye hai ki dar-o-rasan ke baad.

Insan ki khwahishon ki koi intiha nahi,
Do gaz zameen bhi chahiye do gaz kafan ke baad. !!

वो भी सराहने लगे अर्बाब-ए-फ़न के बाद,
दाद-ए-सुख़न मिली मुझे तर्क-ए-सुख़न के बाद !

दीवाना-वार चाँद से आगे निकल गए,
ठहरा न दिल कहीं भी तेरी अंजुमन के बाद !

होंटों को सी के देखिए पछ्ताइएगा आप,
हंगामे जाग उठते हैं अक्सर घुटन के बाद !

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप,
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद !

एलान-ए-हक़ में ख़तरा-ए-दार-ओ-रसन तो है,
लेकिन सवाल ये है कि दार-ओ-रसन के बाद !

इंसान की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं,
दो गज़ ज़मीन भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद !!

 

Patthar ke khuda wahan bhi paaye..

Patthar ke khuda wahan bhi paaye,
Hum chaand se aaj laut aaye.

Deewaren to har taraf khadi hain,
Kya ho gaye meharaban saaye.

Jungal ki hawayen aa rahi hain,
Kaghaz ka ye shehar ud na jaye.

Laila ne naya janam liya hai,
Hai qais koi jo dil lagaye.

Hai aaj zameen ka ghusl-e-sehat,
Jis dil mein ho jitna khoon laaye.

Sehra sehra lahoo ke kheme,
Phir pyaase lab-e-furaat aaye. !!

पत्थर के ख़ुदा वहाँ भी पाए,
हम चाँद से आज लौट आए !

दीवारें तो हर तरफ़ खड़ी हैं,
क्या हो गए मेहरबान साए

जंगल की हवाएँ आ रही हैं,
काग़ज़ का ये शहर उड़ न जाए !

लैला ने नया जनम लिया है,
है क़ैस कोई जो दिल लगाए !

है आज ज़मीं का ग़ुस्ल-ए-सेह्हत,
जिस दिल में हो जितना ख़ून लाए !

सहरा-सहरा लहू के खे़मे,
फिर प्यासे लब-ए-फ़ुरात आए !!

 

Chand tanha hai aasman tanha..

Chand tanha hai aasman tanha,
Dil mila hai kahan kahan tanha.

Bujh gayi aas chhup gaya tara,
Thartharaata raha dhuan tanha.

Zindagi kya isi ko kahte hain,
Jism tanha hai aur jaan tanha.

Ham-safar koi gar mile bhi kahin,
Donon chalte rahe yahan tanha.

Jalti-bujhti si raushni ke pare,
Simta simta sa ek makan tanha.

Rah dekha karega sadiyon tak,
Chhod jayenge ye jahan tanha. !!

चाँद तन्हा है आसमाँ तन्हा,
दिल मिला है कहाँ कहाँ तन्हा !

बुझ गई आस छुप गया तारा,
थरथराता रहा धुआँ तन्हा !

ज़िंदगी क्या इसी को कहते हैं,
जिस्म तन्हा है और जाँ तन्हा !

हम-सफ़र कोई गर मिले भी कहीं,
दोनों चलते रहे यहाँ तन्हा !

जलती-बुझती सी रौशनी के परे,
सिमटा सिमटा सा इक मकाँ तन्हा !

राह देखा करेगा सदियों तक,
छोड़ जाएँगे ये जहाँ तन्हा !!

Wo khat ke purze uda raha tha..

Wo khat ke purze uda raha tha,
Hawaon ka rukh dikha raha tha.

Bataun kaise wo bahta dariya,
Jab aa raha tha to ja raha tha.

Kuch aur bhi ho gaya numayan,
Main apna likha mita raha tha.

Dhuan dhuan ho gayi thi aankhen,
Charagh ko jab bujha raha tha.

Munder se jhuk ke chand kal bhi,
Padosiyon ko jaga raha tha.

Usi ka iman badal gaya hai,
Kabhi jo mera khuda raha tha.

Wo ek din ek ajnabi ko,
Meri kahani suna raha tha.

Wo umar kam kar raha tha meri,
Main saal apne badha raha tha.

Khuda ki shayad raza ho is mein,
Tumhara jo faisla raha tha. !!

वो ख़त के पुर्ज़े उड़ा रहा था,
हवाओं का रुख़ दिखा रहा था !

बताऊँ कैसे वो बहता दरिया,
जब आ रहा था तो जा रहा था !

कुछ और भी हो गया नुमायाँ,
मैं अपना लिखा मिटा रहा था !

धुआँ धुआँ हो गई थीं आँखें,
चराग़ को जब बुझा रहा था !

मुंडेर से झुक के चाँद कल भी,
पड़ोसियों को जगा रहा था !

उसी का ईमाँ बदल गया है,
कभी जो मेरा ख़ुदा रहा था !

वो एक दिन एक अजनबी को,
मेरी कहानी सुना रहा था !

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था !

ख़ुदा की शायद रज़ा हो इस में,
तुम्हारा जो फ़ैसला रहा था !!

Chandni chhat pe chal rahi hogi..

Chandni chhat pe chal rahi hogi,
Ab akeli tahal rahi hogi.

Phir mera zikr aa gaya hoga,
Barf si wo pighal rahi hogi.

Kal ka sapna bahut suhana tha,
Ye udasi na kal rahi hogi.

Sochta hun ki band kamre mein,
Ek shama si jal rahi hogi.

Shahr ki bhid-bhad se bach kar,
Tu gali se nikal rahi hogi.

Aaj buniyaad thartharaati hai,
Wo dua phul-phal rahi hogi.

Tere gahnon si khankhanati thi,
Bajre ki fasal rahi hogi.

Jin hawaon ne tujh ko dulraya,
Un mein meri ghazal rahi hogi. !!

चाँदनी छत पे चल रही होगी,
अब अकेली टहल रही होगी !

फिर मेरा ज़िक्र आ गया होगा,
बर्फ़ सी वो पिघल रही होगी !

कल का सपना बहुत सुहाना था,
ये उदासी न कल रही होगी !

सोचता हूँ कि बंद कमरे में,
एक शमा सी जल रही होगी !

शहर की भीड़-भाड़ से बच कर,
तू गली से निकल रही होगी !

आज बुनियाद थरथराती है,
वो दुआ फूल-फल रही होगी !

तेरे गहनों सी खनखनाती थी,
बाजरे की फ़सल रही होगी !

जिन हवाओं ने तुझ को दुलराया,
उन में मेरी ग़ज़ल रही होगी !!

Chand sitaron se kya puchu kab din mere phirte hain

Chand sitaron se kya puchu kab din mere phirte hain,
Wo to bechare khud hai bhikhari dere-dere phirte hain.

Jin galiyon mein hum ne sukh ki sej pe raatein kaati thi,
Un galiyon mein vyakul hokar saanjh sawere phirte hain.

Roop-saroop ki jot jagana is nagari me jokhim hai,
Chaaro khunt bagule bankar ghor andhere phirte hain.

Jin ke shaam-badan saaye mein mere man sustaya tha,
Ab tak aankhon ke aage wo bal ghanere phirte hain.

Koi hume bhi ye samjha do un par dil kyo reejh gaya,
Tikhi chitwan baanki chhab wale bahutere phirte hai.

Is nagri mein baag aur van ki yaaron leela nyari hai,
Panchi apne sar pe uthaakar apne basere phirte hain.

Log daman si lete hai jaise ho ji lete hai,
“Abid” hum deewane hai jo baal bikhere phirte hain. !!

चाँद सितारों से क्या पूछूं कब दिन मेरे फिरते हैं,
वो तो बेचारे खुद है भिखारी डेरे-डेरे फिरते हैं !

जिन गलियों में हम ने सुख की सेज पे रातें काटी थी,
उन गलियों में व्याकुल होकर साँझ सवेरे फिरते हैं !

रूप-सरूप की जोत जगाना इस नगरी में जोखिम है,
चारो खूंट बगुले बनकर घोर अँधेरे फिरते हैं !

जिन के शाम-बदन साये में मेरे मन सुस्ताया था,
अब तक आँखों के आगे वो बल घनेरे फिरते हैं !

कोई हमे भी ये समझा दो उन पर दिल क्यों रीझ गया,
तीखी चितवन बाँकी छब वाले बहुतेरे फिरते है !

इस नगरी में बाग़ और वन की यारों लीला न्यारी है,
पंछी अपने सर पे उठाकर अपने बसेरे फिरते हैं !

लोग दमन सी लेते है जैसे हो जी लेते है,
“आबिद” हम दीवाने है जो बाल बिखेरे फिरते हैं !!