Home / Bewafa Shayari

Bewafa Shayari

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha..

Tumhare khat mein naya ek salam kis ka tha,
Na tha raqib to aakhir wo naam kis ka tha.

Wo qatal kar ke mujhe har kisi se puchhte hain,
Ye kaam kis ne kiya hai ye kaam kis ka tha.

Wafa karenge nibahenge baat manenge,
Tumhein bhi yaad hai kuchh ye kalam kis ka tha.

Raha na dil mein wo bedard aur dard raha,
Muqim kaun hua hai maqam kis ka tha.

Na puchh-gachh thi kisi ki wahan na aaw-bhagat,
Tumhari bazm mein kal ehtimam kis ka tha.

Tamam bazm jise sun ke rah gayi mushtaq,
Kaho wo tazkira-e-na-tamam kis ka tha.

Hamare khat ke to purze kiye padha bhi nahi,
Suna jo tune ba-dil wo payam kis ka tha.

Uthai kyun na qayamat adu ke kuche mein,
Lihaz aap ko waqt-e-khiram kis ka tha.

Guzar gaya wo zamana kahun to kis se kahun,
Khayal dil ko mere subh o sham kis ka tha.

Hamein to hazrat-e-waiz ki zid ne pilwai,
Yahan irada-e-sharb-e-mudam kis ka tha.

Agarche dekhne wale tere hazaron the,
Tabah-haal bahut zer-e-baam kis ka tha.

Wo kaun tha ki tumhein jis ne bewafa jaana,
Khayal-e-kham ye sauda-e-kham kis ka tha.

Inhin sifat se hota hai aadmi mashhur,
Jo lutf aam wo karte ye naam kis ka tha.

Har ek se kahte hain kya “Daagh” bewafa nikla,
Ye puchhe unse koi wo ghulam kis ka tha. !!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किस का था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किस का था !

वो क़त्ल कर के मुझे हर किसी से पूछते हैं,
ये काम किस ने किया है ये काम किस का था !

वफ़ा करेंगे निबाहेंगे बात मानेंगे,
तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किस का था !

रहा न दिल में वो बेदर्द और दर्द रहा,
मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किस का था !

न पूछ-गछ थी किसी की वहाँ न आव-भगत,
तुम्हारी बज़्म में कल एहतिमाम किस का था !

तमाम बज़्म जिसे सुन के रह गई मुश्ताक़,
कहो वो तज़्किरा-ए-ना-तमाम किस का था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तूने ब-दिल वो पयाम किस का था !

उठाई क्यूँ न क़यामत अदू के कूचे में,
लिहाज़ आप को वक़्त-ए-ख़िराम किस का था !

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मिरे सुब्ह ओ शाम किस का था !

हमें तो हज़रत-ए-वाइज़ की ज़िद ने पिलवाई,
यहाँ इरादा-ए-शर्ब-ए-मुदाम किस का था !

अगरचे देखने वाले तिरे हज़ारों थे,
तबाह-हाल बहुत ज़ेर-ए-बाम किस का था !

वो कौन था कि तुम्हें जिस ने बेवफ़ा जाना,
ख़याल-ए-ख़ाम ये सौदा-ए-ख़ाम किस का था !

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर,
जो लुत्फ़ आम वो करते ये नाम किस का था !

हर इक से कहते हैं क्या “दाग़” बेवफ़ा निकला,
ये पूछे उनसे कोई वो ग़ुलाम किस का था !!

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap..

Aashiq samajh rahe hain mujhe dil lagi se aap,
Waqif nahi abhi mere dil ki lagi se aap.

Dil bhi kabhi mila ke mile hain kisi se aap,
Milne ko roz milte hain yun to sabhi se aap.

Sab ko jawab degi nazar hasb-e-muddaa,
Sun lije sab ki baat na kije kisi se aap.

Marna mera ilaj to be-shak hai soch lun,
Ye dosti se kahte hain ya dushmani se aap.

Hoga juda ye hath na gardan se wasl mein,
Darta hun ud na jayen kahin nazuki se aap.

Zahid khuda gawah hai hote falak par aaj,
Lete khuda ka naam agar aashiqi se aap.

Ab ghurne se fayeda bazm-e-raqib mein,
Dil par chhuri to pher chuke be-rukhi se aap.

Dushman ka zikr kya hai jawab us ka dijiye,
Raste mein kal mile the kisi aadmi se aap.

Shohrat hai mujh se husan ki is ka mujhe hai rashk,
Hote hain mustafiz meri zindagi se aap.

Dil to nahi kisi ka tujhe todte hain hum,
Pahle chaman mein puchh len itna kali se aap.

Main bewafa hun ghair nihayat wafa shiar,
Mera salam lije milein ab usi se aap.

Aadhi to intezar hi mein shab guzar gayi,
Us par ye turra so bhi rahenge abhi se aap.

Badla ye rup aap ne kya bazm-e-ghair mein,
Ab tak meri nigah mein hain ajnabi se aap.

Parde mein dosti ke sitam kis qadar huye,
Main kya bataun puchhiye ye apne ji se aap.

Ai shaikh aadmi ke bhi darje hain mukhtalif,
Insan hain zarur magar wajibi se aap.

Mujh se salah li na ijazat talab huyi,
Be-wajh ruth baithe hain apni khushi se aap.

“Bekhud” yahi to umar hai aish o nashat ki,
Dil mein na apne tauba ki thanen abhi se aap. !!

आशिक़ समझ रहे हैं मुझे दिल लगी से आप,
वाक़िफ़ नहीं अभी मिरे दिल की लगी से आप !

दिल भी कभी मिला के मिले हैं किसी से आप,
मिलने को रोज़ मिलते हैं यूँ तो सभी से आप !

सब को जवाब देगी नज़र हस्ब-ए-मुद्दआ,
सुन लीजे सब की बात न कीजे किसी से आप !

मरना मिरा इलाज तो बे-शक है सोच लूँ,
ये दोस्ती से कहते हैं या दुश्मनी से आप !

होगा जुदा ये हाथ न गर्दन से वस्ल में,
डरता हूँ उड़ न जाएँ कहीं नाज़ुकी से आप !

ज़ाहिद ख़ुदा गवाह है होते फ़लक पर आज,
लेते ख़ुदा का नाम अगर आशिक़ी से आप !

अब घूरने से फ़ाएदा बज़्म-ए-रक़ीब में,
दिल पर छुरी तो फेर चुके बे-रुख़ी से आप !

दुश्मन का ज़िक्र क्या है जवाब उस का दीजिए,
रस्ते में कल मिले थे किसी आदमी से आप !

शोहरत है मुझ से हुस्न की इस का मुझे है रश्क,
होते हैं मुस्तफ़ीज़ मिरी ज़िंदगी से आप !

दिल तो नहीं किसी का तुझे तोड़ते हैं हम,
पहले चमन में पूछ लें इतना कली से आप !

मैं बेवफ़ा हूँ ग़ैर निहायत वफ़ा शिआर,
मेरा सलाम लीजे मिलें अब उसी से आप !

आधी तो इंतिज़ार ही में शब गुज़र गई,
उस पर ये तुर्रा सो भी रहेंगे अभी से आप !

बदला ये रूप आप ने क्या बज़्म-ए-ग़ैर में,
अब तक मिरी निगाह में हैं अजनबी से आप !

पर्दे में दोस्ती के सितम किस क़दर हुए,
मैं क्या बताऊँ पूछिए ये अपने जी से आप !

ऐ शैख़ आदमी के भी दर्जे हैं मुख़्तलिफ़,
इंसान हैं ज़रूर मगर वाजिबी से आप !

मुझ से सलाह ली न इजाज़त तलब हुई,
बे-वजह रूठ बैठे हैं अपनी ख़ुशी से आप !

“बेख़ुद” यही तो उम्र है ऐश ओ नशात की,
दिल में न अपने तौबा की ठानें अभी से आप !!

famous two line poetry of aziz lakhnavi

Paida wo baat kar ki tujhe roye dusare,
Rona khud ye apne haal pe ye zaar zaar kya.

पैदा वो बात कर कि तुझे रोएँ दूसरे,
रोना खुद अपने हाल पे ये जार जार क्या !

Tumne cheda to kuchh khule hum bhi,
Baat par baat yaad aati hai.

तुम ने छेड़ा तो कुछ खुले हम भी,
बात पर बात याद आती है !

Zaban dil ki haqiqat ko kya bayan karti,
Kisi ka haal kisi se kaha nahi jata.

जबान दिल की हकीकत को क्या बयां करती,
किसी का हाल किसी से कहा नहीं जाता !

Unko sote huye dekha tha dame-subah kabhi,
Kya bataun jo in aankhon ne sama dekha tha.

उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने समां देखा था !

Apne markaz ki taraf maaial-e-parwaz tha husan
Bhulta hi nahi aalam tiri angadaai ka.

अपने मरकज़ की तरफ माइल-ए-परवाज़ था हुस्न,
भूलता ही नहीं आलम तिरी अंगड़ाई का !

Itana to soch zalim jauro-jafa se pahale,
Yah rasm dosti ki duniya se uth jayegi.

इतना तो सोच जालिम जौरो-जफा से पहले,
यह रस्म दोस्ती की दुनिया से उठ जायेगी !

Hamesha tinke hi chunte gujar gayi apni,
Magar chaman mein kahi aashiyan bana na sake.

हमेशा तिनके ही चुनते गुजर गई अपनी,
मगर चमन में कहीं आशियाँ बना ना सके !

Ek majboor ki tamnna kya,
Roz jeeti hai, roz marti hai.

एक मजबूर की तमन्ना क्या,
रोज जीती है, रोज मरती है !

Kafas mein ji nahi lagta hai. aah phir bhi mera,
Yah janta hun ki tinka bhi aashiyan mein nahi.

कफस में जी नहीं लगता है, आह फिर भी मेरा,
यह जानता हूँ कि तिनका भी आशियाँ में नहीं !

Sitam hai lash par us bewafa ka yah kehana,
Ki aane ka bhi na kisi ne intezaar kiya.

सितम है लाश पर उस बेवफा का यह कहना,
कि आने का भी न किसी ने इंतज़ार किया !

Khuda ka kaam hai yun marizon ko shifa dena,
Munasib ho to ek din hathon se apne dawa dena.

खुदा का काम है यूँ तो मरीजों को शिफा देना,
मुनासिब हो तो इक दिन हाथों से अपने दवा देना !

Bhala zabat ki bhi koi inteha hai,
Kahan tak tabiyat ko apni sambhale.

भला जब्त की भी कोई इन्तहा है,
कहाँ तक तबियत को अपनी संभाले !

Jhoothe wadon par thi apni zindagi,
Ab to yah bhi aasara jata raha.

झूठे वादों पर थी अपनी जिन्दगी,
अब तो यह भी आसरा जाता रहा !

Suroore-shab ki nahi subah ka khumar hun main,
Nikal chuki hai jo gulshan se wah bahar hun main.

सुरूरे-शब की नहीं सुबह का खुमार हूँ मैं,
निकल चुकी है जो गुलशन से वह बहार हूँ मैं !

Dil samjhata tha ki khalwat mein wo tanha honge,
Maine parda jo uthaya to kayamat nikali.

दिल समझता था कि ख़ल्वत में वो तन्हा होंगे,
मैंने पर्दा जो उठाया तो क़यामत निकली !

Khud chale aao ya bula bhejo,
Raat akele basar nahi hoti.

ख़ुद चले आओ या बुला भेजो,
रात अकेले बसर नहीं होती !

Aaina chhod ke dekha kiye surat meri,
Dil-e-muztar ne mire un ko sanwarne na diya.

आईना छोड़ के देखा किए सूरत मेरी,
दिल-ए-मुज़्तर ने मिरे उन को सँवरने न दिया !

Hijr ki raat katne waale,
Kya karega agar sahar na huyi.

हिज्र की रात काटने वाले,
क्या करेगा अगर सहर न हुई !

Hai dil mein josh-e-hasrat rukte nahi hain aansoo,
Risti huyi surahi tuuta hua subu hun.

है दिल में जोश-ए-हसरत रुकते नहीं हैं आँसू,
रिसती हुई सुराही टूटा हुआ सुबू हूँ !

“Azīz” munh se wo apne naqab to ulten,
Karenge jabr agar dil pe ikhtiyar raha.

“अज़ीज़” मुँह से वो अपने नक़ाब तो उलटें,
करेंगे जब्र अगर दिल पे इख़्तियार रहा !

Be-piye waaiz ko meri raaye mein,
Masjid-e-jama mein jaana hi na tha.

बे-पिए वाइ’ज़ को मेरी राय में,
मस्जिद-ए-जामा में जाना ही न था !

Usi ko hashr kahte hain jahan duniya ho fariyadi,
Yahi ai mir-e-divan-e-jaza kya teri mahfil hai.

उसी को हश्र कहते हैं जहाँ दुनिया हो फ़रियादी,
यही ऐ मीर-ए-दीवान-ए-जज़ा क्या तेरी महफ़िल है !

Lutf-e-bahar kuchh nahi go hai wahi bahar,
Dil hi ujad gaya ki zamana ujad gaya.

लुत्फ़-ए-बहार कुछ नहीं गो है वही बहार,
दिल ही उजड़ गया कि ज़माना उजड़ गया !

Itna bhi bar-e-khatir-e-gulshan na ho koi,
Tuti wo shakh jis pe mira ashiyana tha.

इतना भी बार-ए-ख़ातिर-ए-गुलशन न हो कोई,
टूटी वो शाख़ जिस पे मिरा आशियाना था !

Batao aise marizon ka hai ilaaj koi,
Ki jin se haal bhi apna bayan nahi hota.

बताओ ऐसे मरीज़ों का है इलाज कोई,
कि जिन से हाल भी अपना बयाँ नहीं होता !

Be-khudi kucha-e-janan mein liye jaati hai,
Dekhiye kaun mujhe meri khabar deta hai.

बे-ख़ुदी कूचा-ए-जानाँ में लिए जाती है,
देखिए कौन मुझे मेरी ख़बर देता है !

Haaye kya chiiz thi jawani bhi,
Ab to din raat yaad aati hai.

हाए क्या चीज़ थी जवानी भी,
अब तो दिन रात याद आती है !

Maana ki bazm-e-husn ke adab hain bahut,
Jab dil pe ikhtiyar na ho kya kare koi.

माना कि बज़्म-ए-हुस्न के आदाब हैं बहुत,
जब दिल पे इख़्तियार न हो क्या करे कोई !

Naza ka waqt hai baitha hai sirhane koi,
Waqt ab wo hai ki marna hamein manzur nahi.

नज़्अ’ का वक़्त है बैठा है सिरहाने कोई,
वक़्त अब वो है कि मरना हमें मंज़ूर नहीं !

Qatal aur mujh se sakht-jan ka qatal,
Tegh dekho zara kamar dekho.

क़त्ल और मुझ से सख़्त-जाँ का क़त्ल,
तेग़ देखो ज़रा कमर देखो !

Jab se zulfon ka pada hai is mein aks,
Dil mira tuta hua aaina hai.

जब से ज़ुल्फ़ों का पड़ा है इस में अक्स,
दिल मिरा टूटा हुआ आईना है !

Dil nahi jab to khaak hai duniya,
Asal jo chiiz thi wahi na rahi.

दिल नहीं जब तो ख़ाक है दुनिया,
असल जो चीज़ थी वही न रही !

Tumhen hanste hue dekha hai jab se,
Mujhe rone ki aadat ho gayi hai.

तुम्हें हँसते हुए देखा है जब से,
मुझे रोने की आदत हो गई है !

Tamam anjuman-e-waz ho gayi barham,
Liye hue koi yun saghar-e-sharab aaya.

तमाम अंजुमन-ए-वाज़ हो गई बरहम,
लिए हुए कोई यूँ साग़र-ए-शराब आया !

Musibat thi hamare hi liye kyun,
Ye maana ham jiye lekin jiye kyun ?

मुसीबत थी हमारे ही लिए क्यूँ,
ये माना हम जिए लेकिन जिए क्यूँ ?

Tah mein dariya-e-mohabbat ke thi kya chiiz “Azīz”,
Jo koi dub gaya us ko ubharne na diya.

तह में दरिया-ए-मोहब्बत के थी क्या चीज़ “अज़ीज़”,
जो कोई डूब गया उस को उभरने न दिया !

Dil ki aludgi-e-zakhm badhi jaati hai,
Saans leta hun to ab khun ki bu aati hai.

दिल की आलूदगी-ए-ज़ख़्म बढ़ी जाती है,
साँस लेता हूँ तो अब ख़ून की बू आती है !

Phuut nikla zahr saare jism mein,
Jab kabhi aansoo hamare tham gaye.

फूट निकला ज़हर सारे जिस्म में,
जब कभी आँसू हमारे थम गए !

Udasi ab kisi ka rang jamne hi nahi deti,
Kahan tak phool barsaye koi gor-e-ghariban par.

उदासी अब किसी का रंग जमने ही नहीं देती,
कहाँ तक फूल बरसाए कोई गोर-ए-ग़रीबाँ पर !

Shisha-e-dil ko yun na uthao,
Dekho haath se chhota hota.

शीशा-ए-दिल को यूँ न उठाओ,
देखो हाथ से छोटा होता !