Home / Barsaat / Baarish Shayari

Barsaat / Baarish Shayari

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai..

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai,
Tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai.

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the,
Suna hai barish ne pattharon par asar kiya hai.

Salib ka bar bhi uthao tamam jiwan,
Ye lab-kushai ka jurm tum ne agar kiya hai.

Tumhein khabar thi haqiqaten talkh hain jabhi to,
Tumhari aankhon ne khwab ko mo’atabar kiya hai.

Ghutan badhi hai to phir usi ko sadayen di hain,
Ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai.

Hai tere andar basi hui ek aur duniya,
Magar kabhi tu ne itna lamba safar kiya hai.

Mere hi dam se to raunaqen tere shehar mein thin,
Mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai.

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne,
Tere fasane ko kis qadar mukhtasar kiya hai.

Bahut si aankhon mein tirgi ghar bana chuki hai,
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai. !!

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है,
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है !

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे,
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है !

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन,
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है !

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो,
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मोतबर किया है !

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं,
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है !

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया,
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है !

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं,
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है !

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने,
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है !

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है,
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है !!

 

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha..

Ab ke barish mein to ye kar-e-ziyan hona hi tha,
Apni kachchi bastiyon ko be-nishan hona hi tha.

Kis ke bas mein tha hawa ki wahshaton ko rokna,
Barg-e-gul ko khak shoale ko dhuan hona hi tha.

Jab koi samt-e-safar tai thi na hadd-e-rahguzar,
Aye mere rah-rau safar to raegan hona hi tha.

Mujh ko rukna tha use jaana tha agle mod tak,
Faisla ye us ke mere darmiyan hona hi tha.

Chand ko chalna tha bahti sipiyon ke sath-sath,
Moajiza ye bhi tah-e-ab-e-rawan hona hi tha.

Main naye chehron pe kahta tha nayi ghazlein sada,
Meri is aadat se us ko bad-guman hona hi tha.

Shehar se bahar ki virani basana thi mujhe,
Apni tanhai pe kuchh to mehrban hona hi tha.

Apni aankhen dafn karna thi ghubar-e-khak mein,
Ye sitam bhi hum pe zer-e-asman hona hi tha.

Be-sada basti ki rasmein thi yahi “Mohsin” mere,
Main zaban rakhta tha mujh ko be-zaban hona hi tha. !!

अब के बारिश में तो ये कार-ए-ज़ियाँ होना ही था,
अपनी कच्ची बस्तियों को बे-निशाँ होना ही था !

किस के बस में था हवा की वहशतों को रोकना,
बर्ग-ए-गुल को ख़ाक शोले को धुआँ होना ही था !

जब कोई सम्त-ए-सफ़र तय थी न हद्द-ए-रहगुज़र,
ऐ मेरे रह-रौ सफ़र तो राएगाँ होना ही था !

मुझ को रुकना था उसे जाना था अगले मोड़ तक,
फ़ैसला ये उस के मेरे दरमियाँ होना ही था !

चाँद को चलना था बहती सीपियों के साथ-साथ,
मोजिज़ा ये भी तह-ए-आब-ए-रवाँ होना ही था !

मैं नए चेहरों पे कहता था नई ग़ज़लें सदा,
मेरी इस आदत से उस को बद-गुमाँ होना ही था !

शहर से बाहर की वीरानी बसाना थी मुझे,
अपनी तन्हाई पे कुछ तो मेहरबाँ होना ही था !

अपनी आँखें दफ़्न करना थीं ग़ुबार-ए-ख़ाक में,
ये सितम भी हम पे ज़ेर-ए-आसमाँ होना ही था !

बे-सदा बस्ती की रस्में थीं यही “मोहसिन” मेरे,
मैं ज़बाँ रखता था मुझ को बे-ज़बाँ होना ही था !!

 

Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka sawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Mohalle ki sab se nishani purani
Wo budiya jise bachche kahte the nani
Wo nani ki baaton mein pariyon ka dhera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhul sakta hai koi
Wo choti si raatein wo lambi kahani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Khadi dhup mein apne ghar se nikalna
Wo chidiyan wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiyon ki shadi mein ladna-jhagadna
Wo jhulon se girna wo girte sambhlna
Wo pital ke chhanw ke pyare se tohfe
Wo tuti hui chudiyon ki nishani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

Kabhi ret ke unche tilon pe jaana
Gharaunde banana bana ke mitana
Wo masum chahat ki taswir apni
Wo khwabon khilonon ki jagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khubsurat thi wo zindgani.

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka saawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़ियों की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिरते सम्भलना
वो पीतल के छाँव के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझ को लौटा दो बचपन का सावन
वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी !

 

Waqt ki umar kya badi hogi..

Waqt ki umar kya badi hogi,
Ek tere wasl ki ghadi hogi.

Dastaken de rahi hai palkon par,
Koi barsat ki jhadi hogi.

Kya khabar thi ki nok-e-khanjar bhi,
Phool ki ek pankhudi hogi.

Zulf bal kha rahi hai mathe par,
Chandni se saba ladi hogi.

Aye adam ke musafiro hushyar,
Raah mein zindagi khadi hogi

Kyun girah gesuon mein dali hai,
Jaan kisi phool ki adi hogi.

Iltija ka malal kya kije,
Un ke dar par kahin padi hogi.

Maut kahte hain jis ko aye “Saghar”,
Zindagi ki koi kadi hogi. !!

वक़्त की उम्र क्या बड़ी होगी,
एक तेरे वस्ल की घड़ी होगी !

दस्तकें दे रही है पलकों पर,
कोई बरसात की झड़ी होगी !

क्या ख़बर थी कि नोक-ए-ख़ंजर भी,
फूल की एक पंखुड़ी होगी !

ज़ुल्फ़ बल खा रही है माथे पर,
चाँदनी से सबा लड़ी होगी !

ऐ अदम के मुसाफ़िरो हुश्यार,
राह में ज़िंदगी खड़ी होगी !

क्यूँ गिरह गेसुओं में डाली है,
जाँ किसी फूल की अड़ी होगी !

इल्तिजा का मलाल क्या कीजे,
उन के दर पर कहीं पड़ी होगी !

मौत कहते हैं जिस को ऐ “साग़र”,
ज़िंदगी की कोई कड़ी होगी !!

 

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani

Kisne bhige hue balon se ye jhatka paani,
Jhum kar aayi ghata tut ke barsa paani.

Koi matwali ghata thi ke jawani ki umang,
Ji baha le gaya barsat ka pahla paani.

Tiktiki bandhe wo firte hai main is fikr mein hun,
Kahi khaane lage na chakkar ye gahara paani.

Baat karne mein wo un aankhon se amrit tapka,
“Arzoo” dekhte hi muh mein bhar aaya paani.

Ro liya fut ke seene mein jalan ab kyun ho,
Aag pighla ke nikla hai ye jalta paani.

Ye pasina wahi aansoo hai jo pi jate the tum,
“Arzoo” lo wo khula bhed wo futa paani.

किसने भीगे हुए बालों से ये झटका पानी,
झूम कर आई घटा टूट के बरसा पानी !

कोई मतवाली घटा थी के जवानी की उमंग,
जी बहा ले गया बरसात का पहला पानी !

टिकटिकी बंधे वो फिरते है मैं इस फ़िक्र में हूँ,
कही खाने लगे न चक्कर ये गहरा पानी !

बात करने में वो उन आँखों से अमृत टपका,
“आरज़ू” देखते ही मुह में भर आया पानी !

रो लिया फुट के सीने में जलन अब क्यों हों,
आग पिघला के निकला है ये जलता पानी !

ये पसीना वही आंसू है जो पी जाते थे तुम,
“आरज़ू” लो वो खुला भेद वो फूटा पानी !!