Home / Bachpan Shayari

Bachpan Shayari

Hath aa kar laga gaya koi..

Haath aa kar laga gaya koi,
Mera chhappar utha gaya koi.

Lag gaya ek masheen mein main bhi,
Shehar mein le ke aa gaya koi.

Main khada tha ki peeth par meri,
Ishtihaar ek laga gaya koi.

Ye sadi dhoop ko tarasti hai,
Jaise sooraj ko kha gaya koi.

Aisi mehangaai hai ki chehra bhi,
Bech ke apna kha gaya koi.

Ab woh armaan hain na woh sapne,
Sab kabootar uda gaya koi.

Woh gaye jab se aisa lagta hai,
Chhota mota khuda gaya koi.

Mera bachpan bhi saath le gaya,
Gaaon se jab bhi aa gaya koi. !!

हाथ आ कर लगा गया कोई,
मेरा छप्पर उठा गया कोई !

लग गया एक मशीन में मैं भी,
शहर में ले के आ गया कोई !

मैं खड़ा था कि पीठ पर मेरी,
इश्तिहार एक लगा गया कोई !

ये सदी धूप को तरसती है,
जैसे सूरज को खा गया कोई !

ऐसी महँगाई है कि चेहरा भी,
बेच के अपना खा गया कोई !

अब वो अरमान हैं न वो सपने,
सब कबूतर उड़ा गया कोई !

वो गए जब से ऐसा लगता है,
छोटा मोटा ख़ुदा गया कोई !

मेरा बचपन भी साथ ले आया,
गाँव से जब भी आ गया कोई !!

 

Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka sawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Mohalle ki sab se nishani purani
Wo budiya jise bachche kahte the nani
Wo nani ki baaton mein pariyon ka dhera
Wo chehre ki jhuriyon mein sadiyon ka phera
Bhulaye nahi bhul sakta hai koi
Wo choti si raatein wo lambi kahani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka pani.

Khadi dhup mein apne ghar se nikalna
Wo chidiyan wo bulbul wo titli pakadna
Wo gudiyon ki shadi mein ladna-jhagadna
Wo jhulon se girna wo girte sambhlna
Wo pital ke chhanw ke pyare se tohfe
Wo tuti hui chudiyon ki nishani
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

Kabhi ret ke unche tilon pe jaana
Gharaunde banana bana ke mitana
Wo masum chahat ki taswir apni
Wo khwabon khilonon ki jagir apni
Na duniya ka gham tha na rishton ke bandhan
Badi khubsurat thi wo zindgani.

Ye daulat bhi le lo ye shohrat bhi le lo
Bhale chhin lo mujh se meri jawani
Magar mujh ko lota do wo bachpan ka saawan
Wo kaghaz ki kashti wo barish ka paani.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो वो बचपन का सावन
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी
वो नानी की बातों में परियों का डेरा
वो चेहरे की झुरिर्यों में सदियों का फेरा
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई
वो छोटी सी रातें वो लम्बी कहानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया वो बुलबुल वो तितली पकड़ना
वो गुड़ियों की शादी में लड़ना झगड़ना
वो झूलों से गिरना वो गिरते सम्भलना
वो पीतल के छाँव के प्यारे से तोहफ़े
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी !

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना बनाके मिटाना
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी
न दुनिया का ग़म था न रिश्तों के बंधन
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िंदगानी !

ये दौलत भी ले लो ये शोहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझ से मेरी जवानी
मगर मुझ को लौटा दो बचपन का सावन
वो काग़ज़ की कश्ती वो बारिश का पानी !

 

Munawwar Rana “Maa” Shayari (Bachche बच्चे)

1.
Farishte aa ke unke jism par khushboo lagate hain,
Wo bachche rail ke dibbe mein jo jhaadu lagaate hain.

फ़रिश्ते आ के उनके जिस्म पर ख़ुशबू लगाते हैं,
वो बच्चे रेल के डिब्बे में जो झाड़ू लगाते हैं !

2.
Humakte khelte bachchon ki shaitaani nahi jati,
Magar phir bhi humare ghar ki veeraani nahi jati.

हुमकते खेलते बच्चों की शैतानी नहीं जाती,
मगर फिर भी हमारे घर की वीरानी नहीं जाती !

3.
Apne mustkbil ki chaadar par rafu karte huye,
Maszidon mein dekhiye bachche waju karte huye.

अपने मुस्तक़्बिल की चादर पर रफ़ू करते हुए,
मस्जिदों में देखिये बच्चे वज़ू करते हुए !

4.
Mujhe is shehar ki sab ladkiyaan aadaab karti hain,
Main bachchon ki kalaai ke liye raakhi banata hun.

मुझे इस शहर की सब लड़कियाँ आदाब करती हैं,
मैं बच्चों की कलाई के लिए राखी बनाता हूँ !

5.
Ghar ka bhojh uthane wale bachche ki taqdeer na punchh,
Bachpan ghar se baahar nikala aur khilauna tut gaya.

घर का बोझ उठाने वाले बच्चे की तक़दीर न पूछ,
बचपन घर से बाहर निकला और खिलौना टूट गया !

6.
Jo ashq gunge the wo arje-haal karne lage,
Humare bachche humin par sawal karne lage.

जो अश्क गूँगे थे वो अर्ज़े-हाल करने लगे,
हमारे बच्चे हमीं पर सवाल करने लगे !

7.
Jab ek waakya bachpan ka humko yaad aaya,
Hum un parindo ko phir se gharon mein chhod aaye.

जब एक वाक़्या बचपन का हमको याद आया,
हम उन परिंदों को फिर से घरों में छोड़ आए !

8.
Bhare sheharon mein kurbaani ka mausam jab se aaya hai,
Mere bachche kabhi holi mein pichkaari nahi late.

भरे शहरों में क़ुर्बानी का मौसम जबसे आया है,
मेरे बच्चे कभी होली में पिचकारी नहीं लाते !

9.
Maszid ki chataai pe ye sote hue bachche,
In bachchon ko dekho kabhi resham nahi dekha.

मस्जिद की चटाई पे ये सोते हुए बच्चे,
इन बच्चों को देखो, कभी रेशम नहीं देखा !

10.
Bhukh se behaal bachche to nahi roye magar,
Ghar ka chulha muflisi ki chugliyaan khane laga.

भूख से बेहाल बच्चे तो नहीं रोये मगर,
घर का चूल्हा मुफ़लिसी की चुग़लियाँ खाने लगा !

11.
Talwaar to kya meri nazar tak nahi uththi,
Us shakhs ke bachche ki taraf dekh liya tha.

तलवार तो क्या मेरी नज़र तक नहीं उठ्ठी,
उस शख़्स के बच्चों की तरफ़ देख लिया था !

12.
Ret par khelte bachchon ko abhi kya maalum,
Koi sailaab gharaunda nahi rehane deta.

रेत पर खेलते बच्चों को अभी क्या मालूम,
कोई सैलाब घरौंदा नहीं रहने देता !

13.
Dhuaan baadal nahi hota ki bachpan daud padta hai,
Khushi se kaun bachcha karkhane tak pahunchta hai.

धुआँ बादल नहीं होता कि बचपन दौड़ पड़ता है,
ख़ुशी से कौन बच्चा कारखाने तक पहुँचता है !

14.
Main chahun to mithaai ki dukane khol sakta hun,
Magar bachpan humesha ramdane tak phunchata hai.

मैं चाहूँ तो मिठाई की दुकानें खोल सकता हूँ,
मगर बचपन हमेशा रामदाने तक पहुँचता है !

15.
Hawa ke rukh pe rehane do ye chalana sikh jayega,
Ki bachcha ladkhadayega to chalana sikh jayega.

हवा के रुख़ पे रहने दो ये चलना सीख जाएगा,
कि बच्चा लड़खड़ाएगा तो चलना सीख जाएगा !

16.
Ek sulgate shehar mein bachcha mila hansta hua,
Sehame-sehame-se charagon ke ujale ki tarah.

इक सुलगते शहर में बच्चा मिला हँसता हुआ,
सहमे-सहमे-से चराग़ों के उजाले की तरह !

17.
Maine Ek muddat se maszid nahi dekhi magar,
Ek bachche ka ajan dena bahut achcha laga.

मैंने इक मुद्दत से मस्जिद नहीं देखी मगर,
एक बच्चे का अज़ाँ देना बहुत अच्छा लगा !

18.
Inhen apni jarurat ke thikaane yaad rehate hain,
Kahan par hai khilauno ki dukan bachche samjhte hain.

इन्हें अपनी ज़रूरत के ठिकाने याद रहते हैं,
कहाँ पर है खिलौनों की दुकाँ बच्चे समझते हैं !

19.
Zamaana ho gaya dange mein is ghar ko jale lekin,
Kisi bachche ke rone ki sadaayein roz aati hain.

ज़माना हो गया दंगे में इस घर को जले लेकिन,
किसी बच्चे के रोने की सदाएँ रोज़ आती हैं !

 

Munawwar Rana “Maa” Part 4

1.
Mera bachpan tha mera ghar tha khilaune the mere,
Sar pe Maa-Baap ka saaya bhi ghazal jaisa tha.

मेरा बचपन था मेरा घर था खिलौने थे मेरे,
सर पे माँ-बाप का साया भी ग़ज़ल जैसा था !

2.
Mukaddas muskurahat Maa ke honthon par larzati hai,
Kisi bacche ka jab pahala sipaara khtam hota hai.

मुक़द्दस मुस्कुराहट माँ के होंठों पर लरज़ती है,
किसी बच्चे का जब पहला सिपारा ख़त्म होता है !

3.
Main wo mele mein bhatakta hua ek baccha hun,
Jiske Maa-Baap ko rote hue mar jana hain.

मैं वो मेले में भटकता हुआ इक बच्चा हूँ,
जिसके माँ-बाप को रोते हुए मर जाना है !

4.
Milta-julta hai sabhi maaon se Maa ka chehara,
Gurudwaare ki bhi deewar na girne paye.

मिलता-जुलता हैं सभी माँओं से माँ का चेहरा,
गुरूद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये !

5.
Maine kal shab chaahaton ki sab kitabein faad di,
Sirf ek kaagaz pe likha lafz-e-Maa rahane diya.

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दीं,
सिर्फ़ इक काग़ज़ पे लिक्खा लफ़्ज़-ए-माँ रहने दिया !

6.
Gher lene ko mujhe jab bhi balaayein aa gayi,
Dhaal ban kar saamne Maa ki duayein aa gayi.

घेर लेने को मुझे जब भी बलाएँ आ गईं,
ढाल बन कर सामने माँ की दुआएँ आ गईं !

7.
Maidaan chhod dene se main bach to jaunga,
Lekin jo yah khabar meri Maa tak pahunch gayi.

मैदान छोड़ देने स्र मैं बच तो जाऊँगा,
लेकिन जो ये ख़बर मेरी माँ तक पहुँच गई !

8.
Munawwar ! Maa ke aage yun kabhi khul kar nahi rona,
Jahan buniyaad ho itani nami achchi nahi hoti.

मुनव्वर ! माँ के आगे यूँ कभी खुल कर नहीं रोना,
जहाँ बुनियाद हो इतनी नमी अच्छी नहीं होती !

9.
Mitti lipat-lipat gayi pairon mein isliye,
Taiyaar ho ke bhi kabhi hizrat na kar sake.

मिट्टी लिपट-लिपट गई पैरों से इसलिए,
तैयार हो के भी कभी हिजरत न कर सके !

10.
Muflisi ! bacche ko rone nahi dena warna,
Ek aansoo bhare bazaar ko kha jayega.

मुफ़्लिसी ! बच्चे को रोने नहीं देना वरना,
एक आँसू भरे बाज़ार को खा जाएगा !

11.
Mujhe khabar nahim jannat badi ki Maa lekin,
Log kehate hain ki jannat bashar ke niche hai.

मुझे खबर नहीम जन्नत बड़ी कि माँ लेकिन,
लोग कहते हैं कि जन्नत बशर के नीचे है !

12.
Mujhe kadhe hue takiye ki kya jaroorat hai,
Kisi ka haath abhi mere sar ke niche hai.

मुझे कढ़े हुए तकिये की क्या ज़रूरत है,
किसी का हाथ अभी मेरे सर के नीचे है !

13.
Bujurgon ka mere dil se abhi tak dar nahi jata,
Ki jab tak jagati rehati hai Maa main ghar nahi jata.

बुज़ुर्गों का मेरे दिल से अभी तक डर नहीं जाता,
कि जब तक जागती रहती है माँ मैं घर नहीं जाता !

14.
Mohabbat karte jaao bas yahi sachchi ibaadat hai,
Mohabbat Maa ko bhi Makka-Madina maan leti hai.

मोहब्बत करते जाओ बस यही सच्ची इबादत है,
मोहब्बत माँ को भी मक्का-मदीना मान लेती है !

15.
Maa ye kehati thi ki moti hain humare aansoo,
Isliye ashqon ka pina bhi bura lagta hai.

माँ ये कहती थी कि मोती हैं हमारे आँसू,
इसलिए अश्कों का पीना भी बुरा लगता है !

16.
Pardesh jane wale kabhi laut aayenge,
Lekin is intezaar mein aankhen chali gayi.

परदेस जाने वाले कभी लौट आयेंगे,
लेकिन इस इंतज़ार में आँखें चली गईं !

17.
Shehar ke raste hon chaahe gaon ki pagdandiyan,
Maa ki ungali thaam kar chalna mujhe achcha laga.

शहर के रस्ते हों चाहे गाँव की पगडंडियाँ,
माँ की उँगली थाम कर चलना मुझे अच्छा लगा !

18.
Main koi ehsaan maanu bhi to aakhir kisliye,
Shehar ne daulat agar di hai to beta le liya.

मैं कोई एहसान मानूँ भी तो आख़िर किसलिए,
शहर ने दौलत अगर दी है तो बेटा ले लिया !

19.
Ab bhi raushan hain teri yaad se ghar ke kamre,
Raushani deta hai ab tak tera saya mujhko.

अब भी रौशन हैं तेरी याद से घर के कमरे,
रौशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको !

20.
Mere chehare pe mamta ki farawani chamakti hai,
Main budha ho raha hun phir bhi peshani chamakti hai.

मेरे चेहरे पे ममता की फ़रावानी चमकती है,
मैं बूढ़ा हो रहा हूँ फिर भी पेशानी चमकती है !