Home / Anjam Poetry

Anjam Poetry

Mera ji hai jab tak teri justaju hai..

Mera ji hai jab tak teri justaju hai,
Zaban jab talak hai yahi guftagu hai.

Khuda jaane kya hoga anjam is ka,
Main be-sabr itna hun wo tund-khu hai.

Tamana teri hai agar hai tamana,
Teri aarzu hai agar aarzu hai.

Kiya sair sab hum ne gulzar-e-duniya,
Gul-e-dosti mein ajab rang-o-bu hai.

Ghanimat hai ye did wa did-e-yaran,
Jahan aankh mund gayi na main hun na tu hai.

Nazar mere dil ki padi “Dard” kis par,
Jidhar dekhta hun wahi ru-ba-ru hai. !!

मेरा जी है जब तक तेरी जुस्तुजू है,
ज़बाँ जब तलक है यही गुफ़्तुगू है !

ख़ुदा जाने क्या होगा अंजाम इस का,
मैं बे-सब्र इतना हूँ वो तुंद-ख़ू है !

तमन्ना तेरी है अगर है तमन्ना,
तेरी आरज़ू है अगर आरज़ू है !

किया सैर सब हम ने गुलज़ार-ए-दुनिया,
गुल-ए-दोस्ती में अजब रंग-ओ-बू है !

गनीमत है ये दीद व दीद-ए-याराँ,
जहाँ आँख मुँद गई न मैं हूँ न तू है !

नज़र मेरे दिल की पड़ी “दर्द” किस पर,
जिधर देखता हूँ वही रू-ब-रू है !!