Home / Anjaan Poetry

Anjaan Poetry

Yun na mil mujh se khafa ho jaise..

Yun na mil mujh se khafa ho jaise,
Sath chal mauj-e-saba ho jaise.

Log yun dekh ke hans dete hain,
Tu mujhe bhul gaya ho jaise.

Ishq ko shirk ki had tak na badha,
Yun na mil hum se khuda ho jaise.

Maut bhi aayi to is naaz ke sath,
Mujh pe ehsan kiya ho jaise.

Aise anjan bane baithe ho,
Tum ko kuchh bhi na pata ho jaise.

Hichkiyan raat ko aati hi rahi,
Tu ne phir yaad kiya ho jaise.

Zindagi bit rahi hai “Danish”,
Ek be-jurm saza ho jaise.

यूँ न मिल मुझ से ख़फ़ा हो जैसे,
साथ चल मौज-ए-सबा हो जैसे !

लोग यूँ देख के हँस देते हैं,
तू मुझे भूल गया हो जैसे !

इश्क़ को शिर्क की हद तक न बढ़ा,
यूँ न मिल हम से ख़ुदा हो जैसे !

मौत भी आई तो इस नाज़ के साथ,
मुझ पे एहसान किया हो जैसे !

ऐसे अंजान बने बैठे हो,
तुम को कुछ भी न पता हो जैसे !

हिचकियाँ रात को आती ही रहीं,
तू ने फिर याद किया हो जैसे !

ज़िंदगी बीत रही है “दानिश”,
एक बे-जुर्म सज़ा हो जैसे !