Home / Akhtar Nazmi

Akhtar Nazmi

Silsila zakhm zakhm jari hai..

Silsila zakhm zakhm jari hai,
Ye zameen door tak hamari hai.

Is zameen se ajab taalluq hai,
Zarre-zarre se rishtedari hai.

Main bahut km kisi se milata hoon,
Jisse yaari hai usse yaari hai.

Hum jise jee rahe hai wo lamha,
Har gujishta sadi pe bhari hai.

Main toh ab usse door hoon shayed,
Jis imart pe sangbari hai.

Naav kagaz ki chod di maine,
Ab samndar ki zimmedari hai.

Phalsfa hai hayat ka mushkil,
Wese majmun ikhtiyaari hai.

Ret ke ghar bah gaye Lekin,
Barishon ka khulus jari hai.

Bech Daala hai din ka har lamha,
Raat thodi bahut hamari hai.

Koi “Nazmi” guzar kar dekhe,
Maine jo zindagi guzari hai !!

सिलसिला ज़ख़्म ज़ख़्म जारी है,
ये ज़मीन दूर तक हमारी है !

इस ज़मीन से अजब ताल्लुक़ है,
ज़र्रे-ज़र्रे से रिश्तेदारी है !

मैं बहुत कम किसी से मिलता हूँ,
जिससे यारी है उससे यारी है !

हम जिसे जी रहे है वो लम्हा,
हर गुजिश्ता सदी पे भारी है !

मैं तो अब उससे दूर हूँ शायद,
जिस इमारत पे संगबारी है !

नाव कागज़ की छोड़ दी मैंने,
अब समंदर की ज़िम्मेदारी है !

फलसफा है हयात का मुश्किल,
वैसे मजमून इख्तियारी है !

रेत के घर बह गए लेकिन,
बारिशों का ख़ुलूस जारी है !

बेच डाला है दिन का हर लम्हा,
रात थोड़ी बहुत हमारी है !

कोई “नज़्मी” गुज़र कर देखे,
मैंने जो ज़िन्दगी गुज़री है !!