Home / Ajnabi Shayari

Ajnabi Shayari

Suna karo meri jaan in se un se afsaane

Suna karo meri jaan in se un se afsaane,
Sab ajnabi hain yahan kaun kis ko pehchane.

Yahan se jald guzar jao qafile walo,
Hain meri pyas ke phunke hue ye virane.

Meri junun-e-parastish se tang aa gaye log,
Suna hai band kiye ja rahe hain but-khane.

Jahan se pichhle pehar koi tishna-kaam utha,
Wahin pe tode hain yaron ne aaj paimane.

Bahar aaye to mera salam keh dena,
Mujhe to aaj talab kar liya hai sahra ne.

Hua hai hukm ki “kaifi” ko sangsar karo,
Masih baithe hain chhup ke kahan khuda jaane. !!

सुना करो मेरी जान इन से उन से अफ़्साने,
सब अजनबी हैं यहाँ कौन किस को पहचाने !

यहाँ से जल्द गुज़र जाओ क़ाफ़िले वालो,
हैं मेरी प्यास के फूँके हुए ये वीराने !

मेरी जुनून-ए-परस्तिश से तंग आ गए लोग,
सुना है बंद किए जा रहे हैं बुत-ख़ाने !

जहाँ से पिछले पहर कोई तिश्ना-काम उठा,
वहीं पे तोड़े हैं यारों ने आज पैमाने !

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना,
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने !

हुआ है हुक्म कि “कैफ़ी” को संगसार करो,
मसीह बैठे हैं छुप के कहाँ ख़ुदा जाने !!

 

Gham hai ya khushi hai tu..

Gham hai ya khushi hai tu,
Meri zindagi hai tu.

Aafaton ke daur mein,
Chain ki ghadi hai tu.

Meri raat ka charagh,
Meri nind bhi hai tu.

Main khizan ki sham hun,
Rut bahaar ki hai tu.

Doston ke darmiyan,
Wajh-e-dosti hai tu.

Meri sari umar mein,
Ek hi kami hai tu.

Main to wo nahi raha,
Han magar wahi hai tu.

“Nasir” is dayar mein,
Kitna ajnabi hai tu. !!

ग़म है या ख़ुशी है तू ,
मेरी ज़िंदगी है तू !

आफ़तों के दौर में,
चैन की घड़ी है तू !

मेरी रात का चराग़,
मेरी नींद भी है तू !

मैं ख़िज़ाँ की शाम हूँ,
रुत बहार की है तू !

दोस्तों के दरमियाँ,
वज्ह-ए-दोस्ती है तू !

मेरी सारी उम्र में,
एक ही कमी है तू !

मैं तो वो नहीं रहा,
हाँ मगर वही है तू !

“नासिर” इस दयार में,
कितना अजनबी है तू !!