Home / Aansoo / Ashk Shayari

Aansoo / Ashk Shayari

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata..

Ashk apna ki tumhara nahi dekha jata,
Abr ki zad mein sitara nahi dekha jata.

Apni shah-e-rag ka lahu tan mein rawan hai jab tak,
Zer-e-khanjar koi pyara nahi dekha jata.

Mauj-dar-mauj ulajhne ki hawas be-mani,
Dubta ho to sahaara nahi dekha jata.

Tere chehre ki kashish thi ki palat kar dekha,
Warna suraj to dobara nahi dekha jata.

Aag ki zid pe na ja phir se bhadak sakti hai,
Rakh ki tah mein sharara nahi dekha jata.

Zakhm aankhon ke bhi sahte the kabhi dil wale,
Ab to abru ka ishaara nahi dekha jata.

Kya qayamat hai ki dil jis ka nagar hai “Mohsin”,
Dil pe us ka bhi ijara nahi dekha jata. !!

अश्क अपना कि तुम्हारा नहीं देखा जाता,
अब्र की ज़द में सितारा नहीं देखा जाता !

अपनी शह-ए-रग का लहू तन में रवाँ है जब तक,
ज़ेर-ए-ख़ंजर कोई प्यारा नहीं देखा जाता !

मौज-दर-मौज उलझने की हवस बे-मानी,
डूबता हो तो सहारा नहीं देखा जाता !

तेरे चेहरे की कशिश थी कि पलट कर देखा,
वर्ना सूरज तो दोबारा नहीं देखा जाता !

आग की ज़िद पे न जा फिर से भड़क सकती है,
राख की तह में शरारा नहीं देखा जाता !

ज़ख़्म आँखों के भी सहते थे कभी दिल वाले,
अब तो अबरू का इशारा नहीं देखा जाता !

क्या क़यामत है कि दिल जिस का नगर है “मोहसिन”,
दिल पे उस का भी इजारा नहीं देखा जाता !!

 

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai..

Koi deewana kehta hain koi pagal samjhta hai,
Magar dharti ki bechani ko bas badal samjhta hai,
Main tujhse dur kaisa hu, tu mujhse dur kaisi hai,
Yeh tera dil samjhta hain ya mera dil samjhta hai.

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ , तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है या मेरा दिल समझता है !

Mohobbat ek ehsaason ki paawan si kahani hain,
Kabhi kabira deewana tha kabhi meera deewani hain,
Yahaan sab log kehte hain meri aakho mein aansoo hain,
Jo tu samjhe toh moti hain jo na samjhe toh paani hain.

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है !

Badalne ko toh in aankhon ke manzar kam nahi badle,
Tumhari yaad ke mausam humhare gham nahi badle,
Tu agle janm mein humse milogi tab toh manogi,
Jamane aur sadi ki is badal mein hum nahi badle.

बदलने को तो इन आंखों के मंजर कम नहीं बदले,
तुम्हारी याद के मौसम हमारे गम नहीं बदले,
तुम अगले जन्म में हमसे मिलोगी तब तो मानोगी,
जमाने और सदी की इस बदल में हम नहीं बदले !

Humein maloom hai do dil judaai seh nahi sakte,
Magar rasmein-wafa ye hai ki ye bhi kah nahi sakte,
Zara kuchh der tum un sahilon ki chikh sun bhar lo,
Jo lahron mein toh dube hai magar sang bah nahi sakte.

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,
मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,
जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,
जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते !

Samandar peer ka andar hain lekin ro nahi sakta,
Yeh aansu pyaar ka moti hain isko kho nahi sakta,
Meri chahat ko dulhan tu bana lena magar sun le,
Jo mera ho nahi paya woh tera ho nahi sakta.

समंदर पीर का अन्दर है, लेकिन रो नही सकता,
यह आँसू प्यार का मोती है, इसको खो नही सकता,
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना, मगर सुन ले,
जो मेरा हो नही पाया, वो तेरा हो नही सकता !

 

Ek Pagli Ladki Ke Bin..

Amawas ki kaali raaton mein dil ka darwaja khulta hai,
Jab dard ki kaali raaton mein gham ansoon ke sang ghulta hain,
Jab pichwade ke kamre mein hum nipat akele hote hain,
Jab ghadiyan tik-tik chalti hain, sab sote hain, Hum rote hain,
Jab baar baar dohrane se sari yaadein chuk jati hain,
Jab unch-nich samjhane mein mathe ki nas dukh jati hain
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं, सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab pothe khali hote hain, jab harf sawali hote hain,
Jab ghazalein ras nahi aati, afsane gali hote hain
Jab basi fiki dhoop sametein din jaldi dhal jta hai,
Jab sooraj ka laskhar chhat se galiyon mein der se jata hai,
Jab jaldi ghar jane ki ichha man hi man ghut jati hai,
Jab college se ghar lane wali pahli bus chhut jati hai,
Jab be-man se khana khane par maa gussa ho jati hai,
Jab lakh mana karne par bhi paaro padhne aa jati hai,
Jab apna har man-chaha kaam koi lachari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai..

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बे-मन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मन-चाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Jab kamre mein sannate ki aawaz sunai deti hai,
Jab darpan mein aankhon ke niche jhai dikhai deti hai
Jab badki bhabhi kahti hai, kuchh sehat ka bhi dhyan karo,
Kya likhte ho din-bhar, kuchh sapnon ka bhi samman karo,
Jab baba wali baithak mein kuchh rishte wale aate hain,
Jab baba hamein bulate hain, hum jate mein ghabrate hain,
Jab saari pahne ek ladki ka ek photo laya jata hai,
Jab bhabhi hamein manati hai, photo dikhlaya jata hai,
Jab sarein ghar ka samjhana humko fankari lagta hai,
Tab ek pagli ladki ke bin jina gaddari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhaari lagta hai..

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन-भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है, हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..

Didi kahti hai us pagli ladki ki kuchh aukat nahi,
Uske dil mein bhaiiya tere jaise pyare jazbat nahi,
Woh pagli ladki meri khatir nau din bhukhi rahti hai,
Chup-chup sare warat karti hai, magar mujhse kuchh na kahti hai,
Jo pagli ladki kahti hai, main pyar tumhi se karti hoon,
Lekin main hun majbur bahut, amma-baba se darti hun,
Us pagli ladki par apna kuchh bhi adhikar nahi baba,
Sab katha-kahani kisse hai, kuchh bhi to saar nahi baba
Bas us pagli ladki ke sang jina fulwari lagta hai,
Aur us pagli ladki ke bin marna bhi bhari lagta hai.. !!

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है..!!

 

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade..

Itna to zindagi mein kisi ke khalal pade,
Hansne se ho sukun na rone se kal pade.

Jis tarah hans raha hun main pi-pi ke garm ashk,
Yun dusra hanse to kaleja nikal pade.

Ek tum ki tum ko fikr-e-nasheb-o-faraaz hai,
Ek hum ki chal pade to bahar-haal chal pade.

Saqi sabhi ko hai gham-e-tishna-labi magar,
Mai hai usi ki naam pe jis ke ubal pade.

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigah,
Ji khush to ho gaya magar aansu nikal pade. !!

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े,
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े !

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी-पी के गर्म अश्क,
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े !

एक तुम कि तुम को फ़िक्र-ए-नशेब-ओ-फ़राज़ है,
एक हम कि चल पड़े तो बहर-हाल चल पड़े !

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर,
मय है उसी की नाम पे जिस के उबल पड़े !

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह,
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े !!

 

Aaj socha to aansu bhar aaye..

Aaj socha to aansu bhar aaye,
Muddatein ho gayi muskuraye.

Har qadam par udhar mud ke dekha,
Un ki mehfil se hum uth to aaye.

Rah gayi zindagi dard ban ke,
Dard dil mein chhupaye-chhupaye.

Dil ki nazuk ragein tutti hain,
Yaad itna bhi koi na aaye. !!

आज सोचा तो आँसू भर आए,
मुद्दतें हो गईं मुस्कुराए !

हर क़दम पर उधर मुड़ के देखा,
उन की महफ़िल से हम उठ तो आए !

रह गई ज़िंदगी दर्द बन के,
दर्द दिल में छुपाए-छुपाए !

दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं,
याद इतना भी कोई न आए !!

 

Tum itna jo muskura rahe ho..

Tum itna jo muskura rahe ho,
Kya gham hai jis ko chhupa rahe ho.

Aankhon mein nami hansi labon par,
Kya haal hai kya dikha rahe ho.

Ban jayenge zahr peete-peete,
Ye ashk jo peete ja rahe ho.

Jin zakhmon ko waqt bhar chala hai,
Tum kyun unhen chhede ja rahe ho.

Rekhaaon ka khel hai muqaddar,
Rekhaaon se mat kha rahe ho. !!

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो,
क्या ग़म है जिस को छुपा रहे हो !

आँखों में नमी हँसी लबों पर,
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो !

बन जाएँगे ज़हर पीते-पीते,
ये अश्क जो पीते जा रहे हो !

जिन ज़ख़्मों को वक़्त भर चला है,
तुम क्यूँ उन्हें छेड़े जा रहे हो !

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर,
रेखाओं से मात खा रहे हो !!qaddar

 

Intezamat naye sire se sambhale jayen..

Intezamat naye sire se sambhale jayen,
Jitane kamzarf hain mehfil se nikale jayen.

Mera ghar aag ki lapaton mein chupa hai lekin,
Jab maza hai tere angan mein ujale jayen.

Gham salamat hai to pite hi rahenge lekin,
Pehale maikhane ki halat sambhali jayen.

Khaali waqton mein kahin baith ke rolen yaron,
Fursaten hain to samandar hi khangale jayen.

Khak mein yun na mila zabt ki tauhin na kar,
Ye wo aansoo hain jo duniya ko baha le jayen.

Hum bhi pyase hain ye ehasas to ho saaqi ko,
Khaali shishe hi hawaon mein uchale jayen.

Aao shahr mein naye dost banayen “Rahat”,
Astinon mein chalo saanp hi paale jayen. !!

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ,
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ !

मेरा घर आग की लपटों में छुपा हैं लेकिन,
जब मज़ा हैं तेरे आँगन में उजाला जाएँ !

गम सलामत हैं तो पीते ही रहेंगे लेकिन,
पहले मयखाने की हालात तो संभाली जाए !

खाली वक्तों में कहीं बैठ के रोलें यारों,
फुरसतें हैं तो समंदर ही खंगाले जाए !

खाक में यु ना मिला ज़ब्त की तौहीन ना कर,
ये वो आसूं हैं जो दुनिया को बहा ले जाएँ !

हम भी प्यासे हैं ये अहसास तो हो साकी को,
खाली शीशे ही हवाओं में उछाले जाए !

आओ शहर में नए दोस्त बनाएं “राहत”,
आस्तीनों में चलो साँप ही पाले जाए !!